dinay ka malham,दिनाय का अंग्रेजी दवा का नाम, दिनाय का दवा का नाम tablet

 दिनाय(dinay) एक चर्म रोग है।जिसको अक्सर दाद भी कहा जाता है।  इस पोस्ट में दिनाय क्यों होता है  दिनाय कैसे फैलता है इसके बारे में  बात नहीं करेंगे इस पोस्ट में हम दिनाय  ठीक  न होने के कारण व इसकी दवा क्रीम(dinay ka dawa cream) की बात करेंगे। 

सबसे पहले हम दिनाय के ठीक ना होने के कारण पर चर्चा करते है,दिनाय अगर किसी को हो जाए तो आसानी से पीछा नहीं छोड़ता यह आसानी से पीछा नहीं छोड़ता या फिर लोग भी इससे आसानी से पीछा नहीं  छुड़ाना चाहते कहने का मतलब है अगर किसी को दिनाय  हो जाए तो लोग लापरवाही के चलते इससे जल्दी से ठीक नहीं हो पाते और दिनाय अपनी जड़े शरीर में मजबूत करता रहता है और दिन बीतने के साथ-साथ एक बहुत ही साधारण सा रोग एक बहुत बड़ा रूप धारण कर लेता है और व्यक्ति को परेशान और बहुत परेशान करने लगता है

दिनाय को ठीक करने से पहले आपको इसके ना ठीक होने के बारे में जान लेना चाहिए क्योंकि इलाज के दौरान ये गलतियां अगर आप करते रहते हैं तो फिर आप कितनी अच्छी मेडिसन ले लेते हैं तो आपको दिनाय में कोई आराम नहीं मिलने वाला है इसलिए पहले इसके कुछ महत्वपूर्ण पहलू पर ध्यान रखें

शुरुआती स्थिति में रोग काफी कम त्वचा को प्रभावित करता हैं और उस समय ज्यादा ध्यान ना देने के कारण यह रोग बढ़ता चला जाता है यह रोग बढने का एक मुख्य कारण होता है 

जब यह रोग किसी को होता है तो व्यक्ति अक्सर खुद से इलाज करता है जो कि बिल्कुल गलत है अगर किसी  विषय में पूर्ण जानकारी नहीं  है तो वह काम करने से अक्सर हानि हो सकती हैं और अगर फंगल इन्फेक्शन में गलत इलाज किया जाए तो इससे भी व्यक्ति को नुकसान ही होता है ना कि कोई फायदा

कुछ लोगों की शिकायत रहती है कि हम काफी दिन से या महीने से दवा खा रहे हैं और बहुत अच्छी दवा भी ले रहे हैं लेकिन फिर भी उन्हें आराम नहीं हो रहा है इसका एक सीधा सा कारण यह माना जाता है के व्यक्ति या तो दवाएं गलत ले रहा है और या फिर वह अपनी दैनिक दिनचर्या में अपने जीवन शैली को बेहतर ढंग से नहीं जी रहा है कहने का मतलब उसके खाने पीने की जो चीजें हैं वह शायद दवाई के फायदे से ज्यादा व्यक्ति को नुकसान पहुंचा रही हैं जिसका व्यक्ति को पता नहीं चलता और रोग की चपेट में लगातार बना रहता है कोई भी व्यक्ति हो जो दवा लेता है उसे इलाज के दौरान अपने खाने पीने की जितनी भी चीजें हैं उनका ध्यान रखना होता है क्योंकि इसका खाने-पीने का सीधा संबंध  होता है जैसी व्यक्ति वस्तु खाएगा वैसा ही उसके शरीर पर उसका असर देखने को मिलता है

दिनाय  चर्म रोग होने के कारण इस पर क्रीम का यूज किया जाता है दिनाय क्रीम से ही ठीक हो जाते हैं और कभी-कभी इसमें दवाखाने की आवश्यकता भी  पड़ती लेकिन बीच-बीच में और लगातार क्रीम का प्रयोग ना करने से रोग बीच में ही रह जाता है बार-बार होता रहता है और ठीक नहीं रहता और फिर वह जिद्दी दाद बन जाता है इसे ठीक करने में अधिक से अधिक दिन का समय लगता है कुछ लोग  steroids क्रीम का भी इस्तेमाल करने लगते हैं जो कि कुछ हद तक सही है


दिनाय की दवा अगर हम दवा की बात करें तो इसकी काफी सारी मेडिसन आपको मार्केट में मिल जाती है और आप इनका यूज करके दिनाय की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं दिनाय की समस्या इतनी बड़ी नहीं है जितना कि इसको समझना एक बार दवा खाने पर आपका दाद ठीक हो सकता है लेकिन यह कोई बड़ी बात नहीं है बड़ी बात तब होगी जब आप इसके कुछ कारणों के बारे में जानकर जिंदगी भर के लिए इससे छुटकारा पा जाएं और यही इसका एक सफल इलाज माना जाएगा क्योंकि फंगल इन्फेक्शन का अगर ज्ञान अधूरा रह जाए तो फिर इसका इलाज करने में थोड़ी परेशानी आती है और इसको ठीक करने में भी टाइम बहुत ज्यादा लग जाता है इसलिए आपको इसकी दवा के साथ साथ इसके कुछ तथ्य भी जान लेने चाहिए ताकि इलाज करने में आपको आसानी हो नहीं तो आप दवाई  लेते रहने पर भी इसको ठीक करने में थोड़ी दिक्कत महसूस करेंगे। 

दिनाय की दवा का नाम इस प्रकार है

दिनाय की दवा को हम तीन भागों में बांट देंगे पहले भाग में हम अंग्रेजी दवा के बारे में बात करेंगे और दूसरे भाग में हम दिनाय का घरेलू उपचार व आयुर्वेदिक दवा के बारे में बात करेंगे और तीसरे भाग में हम होम्योपैथिक दवाइयों के बारे में बताएंगे 

दिनाय की अंग्रेजी दवा का नाम

अंग्रेजी दवा मे भी दो तरह की दवाई फंगल इनफेक्शन पर यूज़ की जाती है एक जो बाहर त्वचा पर क्रीम के रूप में लगाई जाती है और दूसरी जो खाने की टेबलेट के रूप में आती है

दाद की अंग्रेजी क्रीम- रिंग गार्ड क्रीम, इच गार्ड क्रीम क्लोट्रिमाजोल क्रीम, कैंडिड क्रीम, लुलिकॉनाजोले क्रीम लुलिफीन क्रीम, कीटोकोनाजोलक्रीम,

कुछ स्टेरॉइड क्रीम भी है जैसे डर्मिकेम ओसी क्रीम पेंड्रम क्रीम, डर्मिफोर्ड क्रीम, सुपर केटी क्रीम, टाइगर डर्म फोर्डडर्म क्रीम,कास्टर-nf क्रीम आदि 

खाने वाली दवाएं- फ्लुकोनाज़ोल, इट्राकोनाजोल कैप्सूल कैंडी फोर्स कैप्सूल, लिवोसिट्राजिन टेबलेट, सेटजिन टेबलेट, ग्रिसोफूलविन टेबलेट  

दिनाय का घरेलू उपचार व आयुर्वेदिक दवाएं

आयुर्वेदिक औषधियों में कई प्रकार के दवाओं का प्रयोग दिनाय को ठीक करने में करते हैं जैसे तेल क्रीम और कुछ खाने वाली दवाई का प्रयोग में दिनाय को ठीक करने में किया जाता है जिनमें से निम्न प्रकार हैं

 पतंजलि में दिनाय की दवा इस प्रकार है जिसमें कायाकल्प तेल, कायाकल्प वटी, नीम घनवटी एलोवेरा जेल प्रमुख है।

इसमें आप कुछ प्रमुख ऑयल का भी प्रयोग कर सकते हैं जिनमें प्रमुख ऑयल है कोकोनट ऑयल, मस्टर्ड ऑयल, टी ट्री ऑयल, नीम का तेल

कुछ एसिड से बने दवा भी यूज़ की जाती है

जालिम लोशन और इचकू इन दोनों में ही एसिड का प्रयोग किया जाता है जैसे सैलिसिलिक एसिड

इसके अलावा बेंजोइक एसिड का भी प्रयोग फंगल इनफेक्शन पर किया जाता है 

इसके अलावा एलोवेरा, हल्दी, करेला, लहसुन,फिटकरी, नीम का प्रयोग भी दिनाय के इलाज में किया जाता है 

कुछ आयुर्वेदिक क्रीम भी दिनाय के इलाज में प्रयोग की जाती है जिसमें प्रमुख है संजीवनी सुपर क्रीम और पारसमणि आयुर्वेदिक मलहम का प्रयोग भी दिनाय के इलाज में किया जाता है

दिनाय की होम्योपैथिक दवा का नाम

दिनाय के इलाज में अब हम होम्योपैथी दवा की बात करेंगे और कुछ अच्छी-अच्छी दवा के बारे में जानेंगे होम्योपैथिक में भी आपको  बहुत सारी दवाई मिल जाती हैं जो इसके इलाज में यूज़ की जाती है जिससे दिनाय को जड़ से ठीक किया जा सकता है 

सल्फर 30, टेल्लूरियम 30, आर्सेनिक एल्बम 30, सीपिया 30, फास्फोरस 30, होम्योपैथिक की यह दवाई दिनाय के इलाज में बेहतरीन मानी जाती हैं इनकी 30 पावर का ही अगर प्रयोग करते हैं तो आप दिनाय से छुटकारा पा जाएंगे इसके अलावा आप इनकी 200 पावर का भी यूज कर सकते हैं 30 पावर में भी यह दवाई बहुत अच्छा काम करती हैं होम्योपैथिक दवाई आयुर्वेदिक दवा और अंग्रेजी दवाओं से बिल्कुल अलग होती हैं और उनके लेने के नियम भी अलग होते हैं इस बारे में आप ज्यादा जान सकते हैं

निष्कर्ष

इस पोस्ट में हमने उन दवाओं के नाम बताएं जिनका दिनाय के इलाज में यूज़ किया जाता है आप अपनी सुविधा के अनुसार और अधिक जानकारी प्राप्त करके दिनाय का इलाज कर सकते हैं