dinay ka malham,दिनाय का अंग्रेजी दवा का नाम, दिनाय का दवा का नाम tablet

 दिनाय(dinay) एक चर्म रोग है।जिसको अक्सर दाद भी कहा जाता है।  इस पोस्ट में दिनाय क्यों होता है  दिनाय कैसे फैलता है इसके बारे में  बात नहीं करेंगे इस पोस्ट में हम दिनाय  ठीक  न होने के कारण व इसकी दवा क्रीम(dinay ka dawa cream) की बात करेंगे। 

सबसे पहले हम दिनाय के ठीक ना होने के कारण पर चर्चा करते है,दिनाय अगर किसी को हो जाए तो आसानी से पीछा नहीं छोड़ता यह आसानी से पीछा नहीं छोड़ता या फिर लोग भी इससे आसानी से पीछा नहीं  छुड़ाना चाहते कहने का मतलब है अगर किसी को दिनाय  हो जाए तो लोग लापरवाही के चलते इससे जल्दी से ठीक नहीं हो पाते और दिनाय अपनी जड़े शरीर में मजबूत करता रहता है और दिन बीतने के साथ-साथ एक बहुत ही साधारण सा रोग एक बहुत बड़ा रूप धारण कर लेता है और व्यक्ति को परेशान और बहुत परेशान करने लगता है

दिनाय को ठीक करने से पहले आपको इसके ना ठीक होने के बारे में जान लेना चाहिए क्योंकि इलाज के दौरान ये गलतियां अगर आप करते रहते हैं तो फिर आप कितनी अच्छी मेडिसन ले लेते हैं तो आपको दिनाय में कोई आराम नहीं मिलने वाला है इसलिए पहले इसके कुछ महत्वपूर्ण पहलू पर ध्यान रखें

शुरुआती स्थिति में रोग काफी कम त्वचा को प्रभावित करता हैं और उस समय ज्यादा ध्यान ना देने के कारण यह रोग बढ़ता चला जाता है यह रोग बढने का एक मुख्य कारण होता है 

जब यह रोग किसी को होता है तो व्यक्ति अक्सर खुद से इलाज करता है जो कि बिल्कुल गलत है अगर किसी  विषय में पूर्ण जानकारी नहीं  है तो वह काम करने से अक्सर हानि हो सकती हैं और अगर फंगल इन्फेक्शन में गलत इलाज किया जाए तो इससे भी व्यक्ति को नुकसान ही होता है ना कि कोई फायदा

कुछ लोगों की शिकायत रहती है कि हम काफी दिन से या महीने से दवा खा रहे हैं और बहुत अच्छी दवा भी ले रहे हैं लेकिन फिर भी उन्हें आराम नहीं हो रहा है इसका एक सीधा सा कारण यह माना जाता है के व्यक्ति या तो दवाएं गलत ले रहा है और या फिर वह अपनी दैनिक दिनचर्या में अपने जीवन शैली को बेहतर ढंग से नहीं जी रहा है कहने का मतलब उसके खाने पीने की जो चीजें हैं वह शायद दवाई के फायदे से ज्यादा व्यक्ति को नुकसान पहुंचा रही हैं जिसका व्यक्ति को पता नहीं चलता और रोग की चपेट में लगातार बना रहता है कोई भी व्यक्ति हो जो दवा लेता है उसे इलाज के दौरान अपने खाने पीने की जितनी भी चीजें हैं उनका ध्यान रखना होता है क्योंकि इसका खाने-पीने का सीधा संबंध  होता है जैसी व्यक्ति वस्तु खाएगा वैसा ही उसके शरीर पर उसका असर देखने को मिलता है

दिनाय  चर्म रोग होने के कारण इस पर क्रीम का यूज किया जाता है दिनाय क्रीम से ही ठीक हो जाते हैं और कभी-कभी इसमें दवाखाने की आवश्यकता भी  पड़ती लेकिन बीच-बीच में और लगातार क्रीम का प्रयोग ना करने से रोग बीच में ही रह जाता है बार-बार होता रहता है और ठीक नहीं रहता और फिर वह जिद्दी दाद बन जाता है इसे ठीक करने में अधिक से अधिक दिन का समय लगता है कुछ लोग  steroids क्रीम का भी इस्तेमाल करने लगते हैं जो कि कुछ हद तक सही है


दिनाय की दवा(dinai ki dawa) अगर हम दवा की बात करें तो इसकी काफी सारी मेडिसन आपको मार्केट में मिल जाती है और आप इनका यूज करके दिनाय की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं दिनाय की समस्या इतनी बड़ी नहीं है जितना कि इसको समझना एक बार दवा खाने पर आपका दाद ठीक हो सकता है लेकिन यह कोई बड़ी बात नहीं है बड़ी बात तब होगी जब आप इसके कुछ कारणों के बारे में जानकर जिंदगी भर के लिए इससे छुटकारा पा जाएं और यही इसका एक सफल इलाज माना जाएगा क्योंकि फंगल इन्फेक्शन का अगर ज्ञान अधूरा रह जाए तो फिर इसका इलाज करने में थोड़ी परेशानी आती है और इसको ठीक करने में भी टाइम बहुत ज्यादा लग जाता है इसलिए आपको इसकी दवा के साथ साथ इसके कुछ तथ्य भी जान लेने चाहिए ताकि इलाज करने में आपको आसानी हो नहीं तो आप दवाई  लेते रहने पर भी इसको ठीक करने में थोड़ी दिक्कत महसूस करेंगे। 

दिनाय की दवा का नाम इस प्रकार है

दिनाय की दवा को हम तीन भागों में बांट देंगे पहले भाग में हम अंग्रेजी दवा के बारे में बात करेंगे और दूसरे भाग में हम दिनाय का घरेलू उपचार व आयुर्वेदिक दवा के बारे में बात करेंगे और तीसरे भाग में हम होम्योपैथिक दवाइयों के बारे में बताएंगे 

दिनाय की अंग्रेजी दवा का नाम (dinai ka best medicine)

अंग्रेजी दवा मे भी दो तरह की दवाई फंगल इनफेक्शन पर यूज़ की जाती है एक जो बाहर त्वचा पर क्रीम के रूप में लगाई जाती है और दूसरी जो खाने की टेबलेट के रूप में आती है

दाद की अंग्रेजी क्रीम- रिंग गार्ड क्रीम, इच गार्ड क्रीम क्लोट्रिमाजोल क्रीम, कैंडिड क्रीम, लुलिकॉनाजोले क्रीम लुलिफीन क्रीम, कीटोकोनाजोलक्रीम,

कुछ स्टेरॉइड क्रीम भी है जैसे डर्मिकेम ओसी क्रीम पेंड्रम क्रीम, डर्मिफोर्ड क्रीम, सुपर केटी क्रीम, टाइगर डर्म फोर्डडर्म क्रीम,कास्टर-nf क्रीम आदि 

खाने वाली दवाएं- फ्लुकोनाज़ोल, इट्राकोनाजोल कैप्सूल कैंडी फोर्स कैप्सूल, लिवोसिट्राजिन टेबलेट, सेटजिन टेबलेट, ग्रिसोफूलविन टेबलेट  

दिनाय का घरेलू उपचार व आयुर्वेदिक दवाएं

आयुर्वेदिक औषधियों में कई प्रकार के दवाओं का प्रयोग दिनाय को ठीक करने में करते हैं जैसे तेल क्रीम और कुछ खाने वाली दवाई का प्रयोग में दिनाय को ठीक करने में किया जाता है जिनमें से निम्न प्रकार हैं

 पतंजलि में दिनाय की दवा इस प्रकार है जिसमें कायाकल्प तेल, कायाकल्प वटी, नीम घनवटी एलोवेरा जेल प्रमुख है।

इसमें आप कुछ प्रमुख ऑयल का भी प्रयोग कर सकते हैं जिनमें प्रमुख ऑयल है कोकोनट ऑयल, मस्टर्ड ऑयल, टी ट्री ऑयल, नीम का तेल

कुछ एसिड से बने दवा भी यूज़ की जाती है

जालिम लोशन और इचकू इन दोनों में ही एसिड का प्रयोग किया जाता है जैसे सैलिसिलिक एसिड

इसके अलावा बेंजोइक एसिड का भी प्रयोग फंगल इनफेक्शन पर किया जाता है 

इसके अलावा एलोवेरा, हल्दी, करेला, लहसुन,फिटकरी, नीम का प्रयोग भी दिनाय के इलाज में किया जाता है 

कुछ आयुर्वेदिक क्रीम भी दिनाय के इलाज में प्रयोग की जाती है जिसमें प्रमुख है संजीवनी सुपर क्रीम और पारसमणि आयुर्वेदिक मलहम का प्रयोग भी दिनाय के इलाज में किया जाता है

दिनाय की होम्योपैथिक दवा का नाम

दिनाय के इलाज में अब हम होम्योपैथी दवा की बात करेंगे और कुछ अच्छी-अच्छी दवा के बारे में जानेंगे होम्योपैथिक में भी आपको  बहुत सारी दवाई मिल जाती हैं जो इसके इलाज में यूज़ की जाती है जिससे दिनाय को जड़ से ठीक किया जा सकता है 

सल्फर 30, टेल्लूरियम 30, आर्सेनिक एल्बम 30, सीपिया 30, फास्फोरस 30, होम्योपैथिक की यह दवाई दिनाय के इलाज में बेहतरीन मानी जाती हैं इनकी 30 पावर का ही अगर प्रयोग करते हैं तो आप दिनाय से छुटकारा पा जाएंगे इसके अलावा आप इनकी 200 पावर का भी यूज कर सकते हैं 30 पावर में भी यह दवाई बहुत अच्छा काम करती हैं होम्योपैथिक दवाई आयुर्वेदिक दवा और अंग्रेजी दवाओं से बिल्कुल अलग होती हैं और उनके लेने के नियम भी अलग होते हैं इस बारे में आप ज्यादा जान सकते हैं

निष्कर्ष

इस पोस्ट में हमने उन दवाओं के नाम बताएं जिनका दिनाय के इलाज में यूज़ किया जाता है आप अपनी सुविधा के अनुसार और अधिक जानकारी प्राप्त करके दिनाय का इलाज कर सकते हैं और दिनाय से मुक्ति  पा सकते है

स्टेरॉइड क्रीम कैसे यूज करें


रिंगवर्म बेस्ट मेडिसिन 

डेरोबिन क्रीम कैसे यूज़ करे।

ring guard vs itch guard in हिंदी।

 luliconazole cream uses in hindi. 

fangal infekshan in hindi.

English 

dinaay(dinay) ek charm rog hai.jisako aksar daad bhee kaha jaata hai. is post mein dinaay kyon hota hai dinaay kaise phailata hai isake baare mein baat nahin karenge is post mein ham dinaay theek na hone ke kaaran va isakee dava kreem(dinay ka daw chraiam) kee baat karenge. 

sabase pahale ham dinaay ke theek na hone ke kaaran par charcha karate hai,dinaay agar kisee ko ho jae to aasaanee se peechha nahin chhodata yah aasaanee se peechha nahin chhodata ya phir log bhee isase aasaanee se peechha nahin chhudaana chaahate kahane ka matalab hai agar kisee ko dinaay ho jae to log laaparavaahee ke chalate isase jaldee se theek nagin ho paate aur 

dinaay apanee jade shareer mein majaboot karata rahata hai aur din beetane ke saath-saath ek bahut hee saadhaaran sa rog ek bahut bada roop dhaaran kar leta hai aur vyakti ko pareshaan aur bahut pareshaan karane lagata hai dinaay ko theek karane se pahale aapako isake na theek hone ke baare mein jaan lena chaahie kyonki ilaaj ke dauraan ye galatiyaan 

agar aap karate rahate hain to phir aap kitanee achchhee medisan le lete hain to aapako dinaay mein koee aaraam nahin milane vaala hai isalie pahale isake kuchh mahatvapoorn pahaloo par dhyaan rakhen shuruaatee sthiti mein rog kaaphee kam tvacha ko prabhaavit karata hain aur us samay jyaada dhyaan na dene ke kaaran yah rog badhata chala jaata hai yah rog badhane ka ek mukhy 

kaaran hota hai jab yah rog kisee ko hota hai to vyakti aksar khud se ilaaj karata hai jo ki bilkul galat hai agar kisee vishay mein poorn jaanakaaree nahin hai to vah kaam karane se aksar haani ho sakatee hain aur agar phangal inphekshan mein galat ilaaj kiya jae to isase bhee vyakti ko nukasaan hee hota hai na ki koee phaayada kuchh logon kee shikaayat rahatee hai ki ham kaaphee din se ya maheene se dava kha rahe hain aur bahut achchhee dava bhee le rahe hain lekin phir 

bhee unhen aaraam nahin ho raha hai isaka ek seedha sa kaaran yah maana jaata hai ke vyakti ya to davaen galat le raha hai aur ya phir vah apanee dainik dinacharya mein apane jeevan shailee ko behatar dhang se nahin jee raha hai kahane ka matalab usake khaane peene kee jo cheejen hain vah shaayad davaee ke phaayade se

 jyaada vyakti ko nukasaan pahuncha rahee hain jisaka vyakti ko pata nahin chalata aur rog kee chapet mein lagaataar bana rahata hai koee bhee vyakti ho jo dava leta hai use ilaaj ke dauraan apane khaane peene kee 

 jitanee bhee cheejen hain unaka dhyaan rakhana hota hai kyonki isaka khaane-peene ka seedha sambandh hota hai jaisee vyakti vastu khaega vaisa hee usake shareer par usaka asar dekhane ko milata hai dinaay charm rog hone ke kaaran is par kreem ka yooj kiya jaata hai dinaay kreem se hee theek ho jaate hain aur kabhee-kabhee isamen davaakhaane kee aavashyakata bhee padatee lekin beech-beech mein aur lagaataar kreem ka prayog na karane se rog beech mein hee rah jaata hai baar-baar hota rahata hai aur theek nahin rahata aur phir 

vah jiddee daad ban jaata hai ise theek karane mein adhik se adhik din ka samay lagata hai kuchh log stairoids kreem ka bhee istemaal karane lagate hain jo ki kuchh had tak sahee hai dinaay kee dava(dinai ki daw) agar ham dava kee baat karen to isakee kaaphee saaree medisan aapako maarket mein mil jaatee hai aur aap inaka yooj karake dinaay kee samasya se chhutakaara pa sakate hain dinaay kee samasya itanee badee nahin hai jitana ki isako samajhana ek 

 baar dava khaane par aapaka daad theek ho sakata hai lekin yah koee badee baat nahin hai badee baat tab hogee jab aap isake kuchh kaaranon ke baare mein jaanakar jindagee bhar ke lie isase chhutakaara pa jaen aur yahee isaka ek saphal ilaaj maana jaega kyonki phangal inphekshan ka agar gyaan adhoora rah jae to phir isaka ilaaj karane mein thodee pareshaanee aatee hai aur isako theek karane mein bhee taim bahut jyaada lag jaata hai isalie aapko

 is  dava ke saath saath isake kuchh tathy bhee jaan lene chaahie taaki ilaaj karane mein aapako aasaanee ho nahin to aap davaee lete rahane par bhee isako theek karane mein thodee dikkat mahasoos karenge. dinaay kee dava ka naam is prakaar hai dinaay kee dava ko ham teen bhaagon mein baant denge pahale bhaag mein ham angrejee dava ke baare mein baat karenge aur doosare bhaag mein ham dinaay ka ghareloo  

upachaar va aayurvedik dava ke baare mein baat karenge aur teesare bhaag mein ham homyopaithik davaiyon ke baare mein bataenge dinaay kee angrejee dava ka naam (dinai ka baist maidichinai) angrejee dava me bhee do tarah kee davaee phangal inaphekshan par yooz kee jaatee hai ek jo baahar tvacha par kreem ke roop mein lagaee jaatee hai aur doosaree jo khaane kee tebalet ke 

roop mein aatee hai daad kee angrejee kreem- ring gaard kreem, ich gaard kreem klotrimaajol kreem, kaindid kreem, lulikonaajole kreem lulipheen kreem, keetokonaajolakreem, kuchh steroid kreem bhee hai jaise darmikem osee kreem pendram kreem, darmiphord kreem, supar ketee kreem, 

taigar darm phordadarm kreem,kaastar-nf kreem aadi khaane vaalee davaen- phlukonaazol, itraakonaajol kaipsool kaindee phors kaipsool, livositraajin tebalet, setajin tebalet, grisophoolavin tebalet dinaay ka ghareloo upachaar va aayurvedik davaen aayurvedik aushadhiyon mein kaee prakaar ke davaon ka prayog dinaay ko theek karane mein karate hain jaise tel kreem aur kuchh khaane vaalee davaee ka prayog mein dinaay ko theek karane mein kiya jaata hai jinamen se nimn prakaar hain patanjali mein dinaay kee dava is prakaar hai jisamen kaayaakalp tel, kaayaakalp vatee, neem ghanavatee elovera jel pramukh hai. isamen aap kuchh pramukh oyal ka bhee prayog kar sakate hain jinamen pramukh oyal hai kokonat oyal, mastard oyal, tee tree oyal, 

neem ka tel kuchh esid se bane dava bhee yooz kee jaatee hai jaalim loshan aur ichakoo in donon mein hee esid ka prayog kiya jaata hai jaise sailisilik esid isake alaava benjoik esid ka bhee prayog phangal inaphekshan par kiya jaata hai isake alaava elovera, haldee, karela, lahasun,phitakaree, neem ka prayog bhee dinaay ke ilaaj mein kiya jaata hai kuchh aayurvedik kreem bhee dinaay ke ilaaj me

n prayog kee jaatee hai jisamen pramukh hai sanjeevanee supar kreem aur paarasamani aayurvedik malaham ka prayog bhee dinaay ke ilaaj mein kiya jaata hai dinaay kee homyopaithik dava ka naam dinaay ke ilaaj mein ab ham homyopaithee dava kee baat karenge aur kuchh achchhee-achchhee dava ke baare mein jaanenge homyopaithik mein bhee aapako bahut saaree davaee mil 

jaatee hain jo isake ilaaj mein yooz kee jaatee hai jisase dinaay ko jad se theek kiya ja sakata hai salphar 30, tellooriyam 30, aarsenik elbam 30, seepiya 30, phaasphoras 30, homyopaithik kee yah davaee dinaay ke ilaaj mein behatareen maanee jaatee hain inakee 30 paavar ka hee agar prayog karate hain to aap dinaay se chhutakaara pa 

jaenge isake alaava aap inakee 200 paavar ka bhee yooj kar sakate hain 30 paavar mein bhee yah davaee bahut achchha kaam karatee hain homyopaithik davaee aayurvedik dava aur angrejee 

davaon se bilkul alag hotee hain aur unake lene ke niyam bhee alag hote hain is baare mein aap jyaada jaan sakate hain nishkarsh is post mein hamane un davaon ke naam bataen jinaka dinaay ke ilaaj mein yooz kiya jaata hai aap apanee suvidha ke anusaar aur adhik jaanakaaree praapt karake dinaay ka ilaaj kar sakate hain aur dinaay se mukti pa sakate hai




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ