क्लोबेटासोल प्रोपियोनेट क्रीम का उपयोग

क्लोबेटासोल प्रोपियोनेट क्रीम का उपयोग। क्या आप जानते हैं इस समय भारत में सबसे ज्यादा प्रयोग की जाने वाली क्रीम जो दाद खाज खुजली को ठीक करने को दवा करती है उसमें सबसे ज्यादा किसका प्रयोग होता है क्लोबेटासोल प्रोपिनेट जो कि एक स्ट्राइड दवाई

या क्रीम भारत में इतनी ज्यादा यूज होती है कि आपको किसी भी मेडिकल स्टोर आसानी से मिल जाती है आज हमको क्लोबेटासोल प्रोपिनेट  के कुछ ऐसे फैक्टस बताएंगे जो शायद आप नहीं जानते और अगर आप एक दवाई को जान लेते हैं तो आपको बहुुत लाभ होगा

क्लोबेटासोल प्रोपियोनेट क्रीम का उपयोग

लाभ

उपयोग

दुष्प्रभाव

क्लोबेटासोल प्रोपिनेट क्रीम के फायदे

क्लोबेटासोल प्रोपिनेट एक मजबूत स्टेरॉइड क्रीम जो कि 0.05% के साथ यूज की जाती है। यह दवा अधिकतर क्रीम के रूप में आती है और कर्ण के रूम में अधिकतर इसको यूज़ किया जाता है सभी पर होने वाले विभिन्न प्रकार के त्वचा इनफेक्शन में इस क्रीम को यूज किया जा सकता है जैसे कि किसी व्यक्ति को जलन होती हो खुजली होती है दाद की समस्याओं एग्जिमा हो सोरायसिस और इस भी और भी इस तरह की अन्य संस्थाओं में इस दवा को प्रयोग किया जाता है

क्लोबेटासोल प्रोपियोनेट क्रीम का उपयोग कैसे करें

क्लोबेटासोल प्रोपिनेट दैनिक उपयोग करना बहुत ही आसान है आप किसी भी मेडिकल स्टोर से खरीद सकते हैं या फिर अगर आपको डॉक्टर आपको इसका सुझाव देता है आप क्रीम का उपयोग करे तो अपने जिस  हिस्से मे परेशानी वहां पर यूज़ करें और इस क्रीम प्रभावित क्षेत्र में दो बार लगाएं

क्लोबेटासोल प्रोपिनेट के दुष्प्रभाव

क्लोबेटासोल प्रोपिनेट क्रीम के दुष्प्रभाव भी है अगर  आप बिना डॉक्टर की सलाह से या फिर अपने मनमर्जी से अधिक से ज्यादा यूज करते हैं और अपने चेहरे पर और ऐसे प्रभावित क्षेत्र को लगाते हैं तो आप इसके दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते हैं क्लोबेटासोल प्रोपिनेट त्वचा  को पतला करता है जिसे त्वचा कमजोर हो जाती है और उससे दुष्प्रभाव देखने को मिलते हैं

अब तक हमने  क्लोबेटासोल प्रोपियोनेट के बारे वो बाते की जो आपको किसी भी पोस्ट में पढने को मिल जायेगी
अब हम वो बाते आपको बताएंगे जो आपको जरुर पता होनी चाहिए क्लोबेटासोल प्रोपियोनेट एक ऐसा मजबूत स्ट्राइड होता जो शरीर में उत्पन होने वाले  रसायन को रोक देता है। जिसके कारण रोगी को बहुत जल्दी आराम मिलता है।लेकिन यह किसी भी सूक्ष्मजीव को नहीं मारता जैसे की कवक,बेक्टिरिया, वायरस, इसलिए इससे कोई रोग ठीक नहीं होता। यह केवल शरीर मे उत्पन्न होने वाले प्रोस्टाग्लैंडिन,व कुछ एंटी हिस्टामाइन के उत्पादन को रोकता जिनके कारण दर्द व खुजली होती है।इसलिए रोगी धोका खा जाते है। कयोंकि जब शरीर में हरकत बन्द हो जाती है तो उन्हें ऐसा ही लगता हि कि रोग ठीक हो गया है, लेकिन कुछ समय बाद वो फिर होने लगता है
कयोंकि रोग तो ठीक हुआ नहीं था बस कुछ समय के लिए रोक दिया गया था। यह दवा उस समय ज्यादा यूज हुई जब लोगों में फंगल इन्फेक्शन होने लगा था। उस समय लोगों ने इसको बहुत ज्यादा यूज किया। जिससे फंगल कुछ समय के लिए ठीक होता और कुछ दिनोंं बाद फिर पनपने लगता । दवाई बेअसर होने लगी और रोग को ठीक होने में महीनों से साल लगने लगे


क्लोबेटासोल प्रोपियोनेट क्रीम

क्लोबेटासोल प्रोपिनेट को संयोजन में प्रयोग किया जाता है अर्थात इनमें बहुत सी क्रीम ऐसी हैं जिनमें क्लोबेटासोल प्रोपिनेट को मिश्रण के रूप में प्रयोग किया गया है यह क्रीम एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल होती है और इसी रुप में इसको प्रयोग किया जाता है बहुुत ज्यादा यूज होने वाली कुछ क्रीम जिनमें क्लोबेटासोल प्रोपिनेट एक संयोजन के  रूप में है

पैनडर्म

डर्मिकेम ओसी क्रीम

डर्मिफोर्ड क्रीम

Castor-nf क्रीम

टेरबिकेट जीएम








एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ