Natural scabies treatment in hindi at home

 खाज (scabies)  की बीमारी क्या है क्या यह कोई नई बीमारी है नहीं, यह कोई नई बीमारी नहीं है यह आमतौर पर खाज है, खाज की बीमारी को ही स्केबीज की बीमारी कहा जाता है 

(1) scabies meaning in hindi

(2) खाज (scabies) के कीट कि जानकारी

(3) खाज (scabies)होने के लक्षण (scabies symptoms in hindi)

(4) scabies effected part of body

(5) खाज (स्केबीज) ट्रीटमेंट  है (scabies treatment in hindi) 

(6) खाज (scabies) का एलोपैथिक दवाओं से ट्रीटमेंट

(7) खाज(scabies) के लिए होम्योपैथी मेडिसन (Homeopathy medicine for scabies treatment)

(8) खाज (scabies) का आयुर्वेदिक घरेलू उपचार कया है।(scabies ka ayurvedic treament)

(9) खाज (scabies) के बारे में प्रशन

scabies meaning in hindi

खाज और खुजली दो अलग शब्द है खाज के कारण खुजली होती है ना की खुजली में खाज अगर किसी व्यक्ति को खाज है तो इसका मतलब यह है कि उस व्यक्ति को एक ऐसी बीमारी है जो उसे घुन या माइट के कारण होती है

 जिसमें उसे तेज खुजली होती है। और कभी-कभी भयंकर खुजली होती है। अक्सर कुछ लोग खाज खुजली को एक ही समझ लेते हैं मगर इन में थोड़ा अंतर है खुजली किसी भी तरह से हो सकती है जैसे किसी कीट का काटना किसी बीमारी का होना जैसे फंगल इन्फेक्शन होना और खाज एक बीमारी है जो किसी छोटे घुन या माइट के कारण होती है 

अब आप समझ गए होंगे कि खाज (scabies) क्या है और खुजली क्या है आगे हम बात करेंगे कि आज जो इसके पीछे कारण होती है इसके ट्रीटमेंट लक्षण और उपचार के बारे में

आइए अब थोड़ा  खाज((scabies)का कारक क्या है इसे भी थोड़ा समझ लेते हैं  

खाज (scabies) के कीट कि जानकारी

सरकोप्टस स्कैबीई (sarcoptes scabiei) sarcoptes scabiei) arthopoda संघ का एक   आठ पैरों वाला कीट है। इस वर्ग में अधिकतर आने वाले अधिकतर कीट जैसे मच्छर मक्खी खटमल  टिड्डा आदि ऐसे कीट जो अधिकतर मनुष्य को नुकसान पहुंचाते हैं और इनके काटने पर मनुष्य में एक तरह की खुजली उत्पन्न होती है

खाज (scabies)होने के लक्षण (scabies symptoms in hindi)

 जब किसी व्यक्ति को खाज होती है, तो है बहुत परेशान होता है अगर इसके लक्षण कि बात करें तो इसमें मुख्य लक्षण होते हैं 

जब खाज (scabies) किसी व्यक्ति को होती है तो उस व्यक्ति को काफी तीव्र खुजली रात में बहुत ज्यादा बढ़ जाती है खुजली के रात में बढ़ जाने से व्यक्ति काफी ज्यादा परेशान होता है 

मगर खुजली कम नहीं होती यह खुजली अधिकतर ऐसी जगह पर होती है जो हमारे शरीर के जोड़ों से संबंधित अंग होते हैं

 कहने का मतलब हमारी घुटनों का जोड हमारी गर्दन का जोड हमारे पेट और टांगो का जोड़ हमारी जांघों के बीच का जोड़ उंगलियों के बीच की जगह  इन सभी जगह पर स्केबीज के द्वारा अगर किसी व्यक्ति को खुजली होती है तो उस व्यक्ति को खाज है 

Scabies effected part of body

    घुटना

   कमर 

   कलाई

   नितंब

   उंगलियों के बीच का क्षेत्र

    गर्दन

(स्केबीज) ट्रीटमेंट  है (scabies treatment in hindi) 

घुन या स्केबीज का

अगर इसके इलाज की बात की जाए तो इसके होम्योपैथी अंग्रेजी और आयुर्वेद में इलाज संभव है यह डिपेंड करता है कि किस व्यक्ति को कौन सा इलाज अच्छा आराम देता है 

सबसे पहले हम इसके इलाज में एलोपैथिक की बात करते हैं जिसके द्वारा इस रोग को ठीक किया जा सकता है क्योंकि यह रोग बहुत तेजी से बढ़ता है और तेजी से बढ़ने के कारण यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भी फैल सकता है

 इसलिए इसका इलाज अगर अंग्रेजी दवा से किया जाए तो ज्यादा अच्छा रहता है क्योंकि ज्यादा देर रोग होने से  संक्रमण काफी अधिक बढ़ सकता है और अंग्रेजी दवाइयां रोग को बहुत जल्दी ठीक करने में सक्षम होती  

तो देखते हैं के खाज  (scabies) को ठीक करने के लिए कौन-कौन सी मेडिसन या फिर शॉप उपलब्ध है जो इसके इलाज के लिए सबसे बढ़िया ,जो इलाज है ,वह है टेटमोसोल  साबुन।

खाज (scabies) का एलोपैथिक दवाओं से ट्रीटमेंट

tetmosol sabun  स्पेशल स्केबीज को ठीक करने के लिए ही बनाया गया है इस साबुन की खास विशेषता यह है कि इसमें मोनोसोलफर्म का यूज किया जाता है जो की खाज (scabies) को नष्ट कर देता है 

अगर आप खाज (scabies) को ठीक करना चाहते हैं तो आपको टेटमोसोल साबुन या फिर टेटमोसोल लोशन लेना चाहिए  यह खाज (scabies))को ठीक कर देता है

Scabies lotion uses in hindi 

Tetmosol lotion 

permethrin lotion

 खाज स्केबीज कि लिए होम्योपैथी मेडिसन (Homeopathy medicine for scabies treatment)

सिपिया एक होम्योपैथी मेडिसन है जो खाज (scabies) को जड़ से समाप्त कर देती हैं।इस दवा कि सबसे बढ़िया बात ये हैं कि ये दवा शरीर के उन हिस्सो पर काम करती है जंहा जोड होता है चूंकि खाज शरीर के जोड़ों को प्रभावित करती है इसलिए यह दवा खाज(scabies) को ठीक कर देती है

खाज (scabies) का आयुर्वेदिक घरेलू उपचार कया है।(scabies ka ayurvedic treament)

नीम के तेल और पत्तों से खाज का इलाज

खाज(scabies)का आयुर्वेद में इलाज है इसके लिए नीम बहुत अच्छा विकल्प हो सकता है नीम कीट को मारता है ,नीम  खाज को रोकने में बहुत महत्वपूर्ण है यह हानिकारक कीट को भी मार सकता है नीम का प्रयोग बहुत पहले से फसलों मे  कीट को मारने में किया जाता है sarcoptes scabiei भी एक कीट है इसलिए नीम एक बेहतर उपचार हो सकता है।

नारियल का तेल खाज(Scabies)के इलाज में

नारियल का तेल काफी अच्छा माना जाता है यह खाज (scabies) को नष्ट तो नहीं, करता मगर इसके कारण जो खुजली होती है उसे जरुर रोकने में सहायता करता है

आयुर्वेद में खाज (scabies) को समाप्त करने के और भी तरीके हैं पर वे इतने कारगर नहीं है 

खाज (scabies) के बारे में 

क्या पालतू जानवर खुजली का कारण बनते हैं?

खाज (Scabies) जानवरों से इंसानों में नहीं फैलती है। पालतू जानवर एक अलग प्रकार के स्केबीज माइट से संक्रमित होते हैं जो मनुष्यों पर नहीं रहते या प्रजनन नहीं करते हैं। जानवरों के घुन किसी व्यक्ति पर प्रजनन नहीं कर सकते हैं और कुछ दिनों के भीतर अपने आप मर जाते हैं।

खाज (Scabies)का परजीवी कितने दिनों तक कपड़ों बिस्तर में जीवित रह सकता है

शरीर से अलग होने के बाद किसी व्यक्ति के कपड़ों, बिस्तर आदि मे घुन 3 से 4 दिन तक जीवित रह सकता है।इससे बचने के लिए  कपड़ों को धूप में अच्छी तरह सुखाना चाहिए और उन्हें गर्म पानी में धोना चाहिए


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ