black fungal infection symptoms kya hai in hindi

ब्लैक फंगस या म्यूकर माइक्रोसिस  इंफेक्शन नाम कोरोनावायरस के  दौरान काफी चर्चा में रहा जहां एक और लोग कोरोनावायरस  से प्रभावित थे वहीं दूसरी ओर ब्लैक फंगस ने भी लोगों को काफी मुश्किल में डाला। कुछ लोगों ने ब्लैक फंगस की बीमारी को 

black fungal infection symptoms kya hai in hindi
black fungal infection symptoms kya hai in hindi

कोरोनावायरस का ही रूप मान लिया मगर यह सच नहीं था यह बीमारी अलग थी.  कोरोनावायरस की बीमारी एक वायरल इंफेक्शन था , जब कि ब्लैक फंगस एक फंगल इंफेक्शन था

ब्लैक फंगस महामारी इतनी ज्यादा खतरनाक बीमारी नहीं थी मगर  स्थिति को देखते हुए यह बीमारी एक भयानक रूप से सामने आई और लोगों को काफी मुश्किलें हुई । 

वैसे तो फंगल संक्रमण के द्वारा मनुष्य को और भी बीमारी होती है जैसे दाद खाज खुजली और वह त्वचा से संबंधित होती है मगर यह बीमारी थोड़ी कुछ अलग थी इसलिए इसको थोड़ा पहचानने में समस्या हुई

क्योंकि सभी अस्पताल कोविड-19 मरीजों से भरे हुए थे और ऐसे में ब्लैक फंगस ने आकर सभी को और परेशानी में डाल दिया तो आज हम जानेंगे कि ब्लैक फंगस यह बीमारी क्या थी और इससे कैसे बचा जा सकता है।

what is  black fungal in hindi

दरअसल ब्लैक फगंस, एक कवक के कारण होने वाली बीमारी हैं उस कवक का नाम है म्यूकोर, या म्यूकर कवक सड़े गले पर  बासी रोटी डबल रोटी पर पाया जाता है और यह भोजन या कच्ची सब्जियों के माध्यम से हमारे शरीर में प्रवेश कर जाता है ऐसा नहीं कि कवक पहले नहीं था यह पहले भी था और अब भी है 

मगर कोरोनावायरस दौरान कुछ लोगों की इम्युनिटी बहुत ज्यादा कमजोर होने के कारण उन्हें यह फंगस हो गया और जिससे ब्लैक फंगस की बीमारी सामने आई

Black fungal infection symptoms kya hai in hindi
ब्लैक संकट के दौरान मरीजों में जो लक्षण सामने आए उनके आधार पर इसकी पुष्टि हुई इसके लक्षण मुख्यतः 

आंखों का लाल हो जाना 

आंखों से पानी बहना 

आंखों का शूज जाना

 सिर में दर्द होना

 उल्टी होना

मस्तिक का प्रभावित होना

 इस तरह के कुछ मुख्य लक्षण सामने आए जिनसे देख कर कहा जाने लगा कि यह ब्लैक फंगस के लक्षण है

मगर एक बात यहां पर गौर करने वाली है यह बीमारी मुख्यता उन्हीं लोगों को हुई जिनके इम्यूनिटी कमजोर थी अर्थात जिनकी प्रतिरोधक क्षमता कोराना महामारी के दौरान बहुत ज्यादा कम हो गई

जो लोग डायबिटीज के मरीज से उन लोगों में यह बीमारी सबसे ज्यादा देखने को मिली क्योंकि डायबिटीज मरीजों की इम्युनिटी बहुत ज्यादा कमजोर होती हैं उन्हें ब्लैक फंगस ने ज्यादा से ज्यादा  प्रभावित किया 

जो लोग अपने किसी और बीमारी के इलाज में एंटीबायोटिक दवा का बहुत ज्यादा यूज कर रहे थे और काफी दिन से यूज कर रहे थे उन लोगों में विभिन्न ब्लैक फंगल की बीमारी देखने को मिली

black fungal infection ayurvedic treament in hindi

ब्लैक फंगल इन्फेक्शन से बचाव के लिए आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट एक अच्छा और कारगर उपाय साबित हुआ आयुर्वेद में मुख्यता खानपन को बहुत ज्यादा महत्व दिया जाता है और यह बीमारी खानपान के साथ बहुत गहरा संबंध है 

अगर आयुर्वेद के अनुसार खाना-पीना किया जाए तो यह बीमारी कुछ हद तक अपने आप ही ठीक हो जाती है 

क्योंकि अगर इस बीमारी के दौरान जंक फूड ज्यादा मिर्च मसाले वाले भोजन फसाए युक्त खाने से अगर बचा जाए तो यह बीमारी कुछ हद तक कंट्रोल में हो जाती है

 यह बीमारी एक फंगल के कारण हुई और फंगस हमेशा कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को चपेट में लेता 

ck fungal  kya hai in hindi

 इसलिए जरूरी था के सबसे पहले प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जाए और डायबिटीज के मरीजों को शुगर कम स्टेरॉयड कम दी जाए क्योंकि एस्ट्रॉयड शरीर में खून के लेवल में ग्लूकोज की मात्रा अर्थात कार्बोहाइड्रेट की मात्रा को बढ़ा देता है जिससे फंगस कार्बोहाइड्रेट को गुलकोज को अपना भोजन की प्राप्ति कर लेता है और अपनी वृद्धि करता है 

जिससे फंगल इन्फेक्शन की समस्या और ज्यादा बढ़ जाती है इसलिए शुगर लेवल को कंट्रोल करें और इम्युनिटी पावर को को बढ़ाएं और अपने डॉक्टर से परामर्श ले और उनकी बताई गई दवाई को खाएं  यही इसका एक सफल इलाज है 

क्योंकि करोना भले ही चला गया हो मगर फंगस जब भी कमजोर प्रतिरक्षा वाले लोग उसके संपर्क में आएंगे उनको बीमार करता रहेगा

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ